January 24, 2022

Naugachia News

THE SOUL OF THE CITY

बीजेपी विधायक रश्मि वर्मा ने किया इस्तीफे का ऐलान.. बोलीं- इसके पीछे मेरे निजी कारण

भाजपा की नरटकटियागंज विधायक ने इस्तीफे का ऐलान कर दिया है। रश्मि वर्मा ने अपने इस्तीफे में ये लिखा है कि वो अपनी निजी कारणों से इस्तीफा दे रही हैं। उन्होंने इस्तीफे के लेटर के साथ अपना फोटो जारी किया है। उन्होंने कहा है कि वो जल्द ही इसे विधानसभा अध्यक्ष और प्रदेश अध्यक्ष को सौंप देंगी। भास्कर सूत्रों की माने तो वो कल ही अपना इस्तीफा सौंपेंगी। इसके पहले वो मीडियो के सामने आईं और इसका ऐलान किया।

BJP प्रदेश अध्यक्ष ने किया डैमेज कंट्रोल
मामला सामने आने के बाद बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने बेतिया में ही प्रेस कांफ्रेंस किया है। शाम 6 बजे के करीब किए गए प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा कि विधायक की इस्तीफे वाली तस्वीर सही है। लेकिन इसके पीछे कोई राजनीतिक कारण नहीं है। उन्होंने पारिवारिक संपत्ति विवाद में की गई टिप्पणियों से आहत होकर गुस्से में ऐसा कदम उठाया है। वो पटना के लिए निकल गई थीं। मेरी बात हो गई है। अब वो वापस घर आ रही हैं। इस बात को यहीं खत्म समझा जाए।

बेतिया में शाम को प्रेस कांफ्रेंस करते संजय जायसवाल।
बेतिया में शाम को प्रेस कांफ्रेंस करते संजय जायसवाल।

विवादों से रहा है पुराना नाता
भाजपा की विधायक रश्मि वर्मा का नाम दिसंबर 2020 में चर्चा में आया था, तब उन्हें फोन पर जान से मारने की धमकियां मिली थी। उन्होंने थाने में शिकायत की थी कि उनसे 20 लाख रुपए की रंगदारी मांगी जा रही है। इसी तरह का मामला साल 2015 में चुनाव के दौरान ही सामने आया था। उन्होंने धमकी भरा खत मिलने की शिकायत पुलिस से की थी। पत्र में लिखा था तुम्हारे चुनाव लड़ने और नॉमिनेशन करने से हम लोगों के लक्ष्य में बाधा पहुंच रही है।

2015 वाले मामले में रश्मि वर्मा ही आई थी सवालों के घेरे में
विवाद का सिलसिला यही नहीं थमा। हंगामा तब मच गया जब रश्मि वर्मा के कार्यालय के बाहर टाइम बम होने की खबर मिली। इस बम के साथ भी धमकी भरा खत था, जिसको लेकर रश्मि वर्मा ने शिकारपुर थाने में शिकायत की थी। टाइम बम होने की खबर ने पुलिस की नींद उड़ा दी और जांच के लिए मुजफ्फरपुर से विशेष टीम बुलाई गई, जिसमें बम नकली निकला। इसके बाद रश्मि वर्मा की सुरक्षा कड़ी कर दी गई। माना जाता है इस घटना के कारण ही रश्मि वर्मा को खूब सहानुभूति मिली और उन्हें निर्दलीय होने के बाद भी 39 हजार 200 वोट मिले।

चुनाव खत्म होने के बाद जब जांच पूरी हुई तो पता चला कि धमकी भरा पत्र भी बम की तरह नकली था। इस मामले में पुलिस ने रश्मि वर्मा के करीबियों से पूछताछ की, जिसमें ये पता चला कि यह काम उनके करीबी रहे शहनवाज नाम के शख्स ने किया था। शहनवाज ने कहा था कि रश्मि वर्मा ने खुद अपने कार्यालय में ये बम रखवाया था।

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है