नवगछिया : अब जमींदारी बांध पर बढ़ गया खतरा.. मधेपुरा और सहरसा जिला से सहायता

नवगछिया में गंगा और कोशी उफान पर है। लगातार खतरे के निशान से ऊपर बढ़ती ही जा रही है। इसी क्रम में रविवार की शाम अचानक भागलपुर-नौगछिया अनुमंडल क्षेत्र के स्माइलपुर इलाके में रिंग बांध टूट गया, जिससे मैदान और खेत देखते ही देखते जलमग्न हो गए। यह बांध स्माइलपुर से बीनटोली तक फैला हुआ है। इस पुरे बांध में कुल 8 स्पर हैं। रिंग बांध के टूटने की सूचना मिलते ही भागलपुर प्रशासन क्षेत्र में दौड़ पड़ी है।

80 से 90 फीट तक कटा है बांध

स्थानीय लोगों ने बताया कि बाढ़ के पानी का दवाब लगातार बढ़ता ही चला जा रहा था। जिस वजह से दोपहर के बाद अचानक इस्माइलपुर और बिंद टोली के बीच स्पर संख्या 2 और 3 के बीच रिंग बांध टूटने लगा। फिर अचानक तीन से पांच स्पर भी टूट गया। रिंग बांध करीब 80 से 90 तक टूट कर गंगा के तेज धार में बह गए। बताया जाता है कि गंगा का जलस्तर इतना उपर बढ़ गया है कि यह कटाव 90 फीट से ज्यादा काटने की संभावना है।

बह गये दो युवक

बांध टूटते ही वहां मौजूद दो युवक भी उस कटाव में गिर कर तेज बहाव में बहने लगे। लेकिन फिर दोनों ने तैरकर अपनी जान बचा ली ।

अब जमींदारी बांध पर बढ़ गया खतरा

रिंग बांध के टूटने से अब सैदपुर गाँव के लोग दहशत में हैं । ग्रामीण बताते हैं कि गंगा जिस तरह अपने रौद्र रुप में है, ये मुमकिन है कि जमींदारी बांध पर भी खतरा मंडराने लगा है। ग्रामीण बताते हैं कि सैदपुर गांव से पहले जो जमींदारी बांध है उसका कभी मेंटेनेंस नहीं हुआ। इस वजह से अगर इस बांध में हल्का भी रिसाव हुआ तो जमींदारी बांध गंगा के तेज और ऊंचे बहाव के सामने तिनके की तरह बह जायेगा

एसडीआरएफ की टीम पहुंची

रिंग बांध टूटने की सुचना मिलते ही नौगछिया प्रशासन ने भागलपुर जिला प्रशासन और आपदा विभाग को त्राहिमाम सन्देश भेजा है । भागलपुर जिला प्रशासन को सुचना मिलते ही भागलपुर के जिला पदाधिकारी सुव्रत सेन डिम्हा होते हुए आगे से उक्त स्थल के लिए निकल पड़े हैं । तत्कालीन भागलपुर की एसडीआरएफ की टीम उक्त स्थल पर पहुंच कर राहत कार्य में जुट गई है ।

एसडीआरएफ की टीम

रिंग बांध टूटने से हालात बिगड़ने लगे हैं । भागलपुर जिला प्रशासन और नौगछिया प्रशासन ने बिगड़ती स्थिति को देखकर मधेपुरा और सहरसा जिला से सहायता मांगी है। फिलहाल मधेपुरा और सहरसा से चार चार एसडीआरएफ की टीम नौगछिया से लिए निकल चुकी है ।

बढ़ गई है नौगछिया के जलमग्न होने की संभावना

जिस तरह से गंगा और कोशी अपने उफान पर है। ये आशंका व्यक्त की जा रही है कि नौगछिया का दक्षिणी हिस्सा पूरी तरह जलमग्न हो जाएगा। एक तरफ कोशी है तो दुसरी तरफ गंगा है । कोशी उफान मारती हुई कुर्सेला में मिल रही है। तो गंगा अपने तेज बहाव के साथ रिंग बांध को तोड़कर नौगछिया में फ़ैल रही है। हालत ऐसे हो रहे हैं कि संभावना व्यक्त की जा रही है कि रात तक एनएच 31 और एनएच 80 तक जलमग्न की स्थिति हो सकती है ।

एक मकान हो गया जलमग्न

बांध के टूटने से अब तक में एक मकान पूरी तरह से जमींदोश हो गया है । एसडीआरएफ की टीम लोगों को रेस्क्यू करने में लगी हुई है । फिलहाल बाढ़ का पानी सैदपुर गांव में भी चढ़ने लगा है । रिंग बांध के टूटने की खबर मिलते ही उस क्षेत्र में हाहाकार मच गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है