पहले मारपीट की गई फिर उस की हत्या गला दबाकर नदी में फेंक दिया गया- Naugachia News

नारायणपुर : भवानीपुर थाना क्षेत्र के मधुरापुर निवासी रंगाई पुताई करने वाले कारीगर मनीष पंडित 34 के शव को अज्ञात अपराधियों ने गंगा नदी में फेंक दिया. गंगा नदी बलाहा घाट पर शनिवार की सुबह लगभग आठ बजे ग्रामीणों की सुचना पर थानाध्यक्ष जयंत प्रकाश ने शव को नदी से निकलवाया. मृतक की शिनाख्त उसकी पत्नी खुशबू देवी ने किया है. प्रथम दृष्टया शव को देखने से प्रतीत होता है कि मनीष के साथ पहले मारपीट की गई फिर उस की हत्या गला दबाकर की गई और शव को छुपाने के लिए नदी में फेंक दिया गया.

मृतक के दाहिने साइड ललाट के पास कटे व खुन का निशान, बायें कंधा व गले में जख्म का निशान, दाहिने बाजू मैं जख्म बायें हाथ टुटा हुआ व जख्म था. हाथ में कलावा गले में चाँदी का बजरंगबली चकती का माला पहने हुए था. घटना का स्पष्ट कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है हालांकि कहा जा रहा है कि मथुरापुर के ही स्टेट बैंक के पास मनीष ने शुक्रवार को शाम तक रंगाई-पुताई का काम किया है इसके बाद वह घर भी गया और घर में खाना खाने के समय उसका उसकी पत्नी और घरवालों के साथ विवाद हुआ. इसके बाद वह अपने घर से निकल गया था.

परिजनों का कहना है कि रात में बिना बताए निकल जाने के कारण वह लोग आशंकित थे. सुबह जब वे लोग गंगा घाट पर पहुंचे तो देखा कि मनीष की लाश गंगा किनारे पड़ी हुई है. इधर पड़ोसियों ने बताया कि देर रात मनीष के घर में मारपीट जैसी घटना घटी है. घटना का क्या कारण है यह उन लोगों को पता नहीं है. पड़ोसियों ने यह भी बताया कि मनीष की हत्या का राज उसके घर में ही दफन है. मामले किताब में अवैध संबंध की बात भी कही जा रही है. इधर मृतक के कुछ परिजनों का कहना है कि मनीष विक्षिप्त की तरह पिछले दिनों से कर रहा था. कुछ लोग घटना का कारण आत्महत्या भी बता रहे हैं.

कुछ लोग यह भी कर रहे हैं कि मनीष के घर में कुछ बाहरी लोगों की भी दखलंदाजी थी जिसके कारण उसके घर के विवाद में भी बाहरी लोग संलिप्त हो भी संलिप्त हो जाते थे. मनीष की हत्या का एक कारण यह भी हो सकता है. यह बात भी सामने आ रहा है कि मनीष का उसकी पत्नी के साथ वैवाहिक जीवन ठीक-ठाक नहीं था. नारायणपुर व आसपास के इलाकों में जितने मुंह उतनी बातें कही जा रही हैं. भवानीपुर पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है तो दूसरी तरफ भवानीपुर पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम नवगछिया अनुमंडलीय अस्पताल में करा कर परिजनों को सौंप दिया था.

देर शाम नारायणपुर प्रखंड के गंगा घाट पर मनीष का अंतिम संस्कार किया गया. देर रात तक मामले में प्राथमिकी दर्ज करने की प्रक्रिया शुरु कर दी गई थी. सुबह जैसे ही गंगा घाट पर सब होने की सूचना मेरे कि पूरे इलाके में सनसनी फैल गई. बड़ी संख्या में लोग गंगा घाट पर आ जुटे. मृतक के एक पुत्र प्रियांशु (3) व एक पुत्री सोनम(4) है. पाँच भाईयों में मनीष तीसरा स्थान पर था. भवानीपुर ओपी थाना के थानाध्यक्ष जयंत प्रकाश ने बताया कि पुलिस मामले की छानबीन में जुट चुकी है. मृत्यु का स्पष्ट कारण पता नहीं चल पाया है. जल्द ही मामले का उद्भेदन कर लिया जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *