राजीव के अलावा कौन था सोनिया गांधी का दूसरा प्रेमी

राजीव गाँधी अकेले सोनिया गाँधी के मित्र नहीं थे, माधवराव सिंधिया भी उनके अंतरंग मित्रों में से एक थे, माधवराव और सोनिया गाँधी की दोस्ती राजीव और सोनिया की शादी से पहले से थी. दरअसल माधवराव सिंधिया और राजीव गाँधी एक ही कॉलेज में पढ़ते थे और उसी कॉलेज में सोनिया भी पढ़ती थी.

maxresdefault

माधवराव से उनकी दोस्ती राजीव से शादी के बाद भी जारी रही, सोनिया और माधवराव का रिश्ता अक्सर कैमरे की नजरो से बचनें की नाकाम कोशिश करता था, दोनों छुप-छुप कर रेस्टोरेंट जाया करतें थे.. ये रिश्ता ना तो कैमरा के नजरो से बच सका और ना ही देश के लोगो से, अगर ये सब किसी पश्चिम के देशो में होता तो शायद उस रिश्ते को ये दोनों आसानी से कबूल कर लेते.

बहुत कम लोगों को यह पता है कि 1982 में एक रात को दो बजे माधवराव की कार का एक्सीडेंट आईआईटी दिल्ली के गेट के सामने हुआ था, और उस समय कार में दूसरी सवारी थीं सोनिया गाँधी। दोनों को बहुत चोटें आई थीं, आईआईटी के एक छात्र ने उनकी मदद की, कार से बाहर निकाला, एक ऑटो रिक्शा में सोनिया को इंदिरा गाँधी के यहाँ भेजा गया, क्योंकि अस्पताल ले जाने पर कई तरह से प्रश्न हो सकते थे, जबकि माधवराव सिन्धिया अपनी टूटी टाँग लिये बाद में अकेले अस्पताल गये. कहा जाता है, और जब परिदृश्य से सोनिया पूरी तरह गायब हो गईं तब दिल्ली पुलिस ने अपनी भूमिका शुरु की. उस दिन दोनोँ शराब के नशे में थे, बाद में दोनोँ के रिश्तो में दरार आई और माधवराव सिंधिया सोनिया के आलोचक बन गये..2001 में माधवराव की विमान दुर्घटना में मौत के साथ ही दोनों के रिश्तो की कहानी भी दफन हो गयी.

स्पेनिश लेखक जेवियर मोरी की किताब ‘एल साड़ी रोजो’‌, जिसका अंग्रेजी अनुवाद ‘दी रेड साड़ी’ है, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के जीवन का नाट्य रुपांतरण हैं। अंग्रेजी को छोड़ ये किताब दर्जन भर से अधिक भाषाओं में छप चुकी ‌है। कांग्रेस के विरोध के कारण भारत में किताब लगभग नौ वर्षों से अनौपचारिक रूप से प्रतिबं‌धित है। किताब का पहला संस्करण 2008 में स्पेन में छपा था।

सत्‍ता परिवर्तन के बाद ये किताब भारत में भी प्रकाशित हो रही है। लेखक जेवियर मोरी का कहना है कि किताब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की छवि को नुकसान पहुंचा सकती है, इसी वजह से यूपीए सरकार के कार्यकाल में उन्हें प्रकाशन से रोका गया।

जबकि कांग्रेस का कहना है कि लेखक ने कारोबारी कारणों से उस समय किताब का प्रकाशन नहीं किया। अब उन्हें फायदा दिख रहा है, इसलिए वे किताब का प्रकाशन कर रहे हैं। कांग्रेस ने कहा है कि किताब में यदि आपत्तिजनक अंश हुए तो वह कोर्ट भी जा सकती है।

कांग्रेस के विरोध के कारण ही प्रकाशन से पहले ही किताब चर्चा में आ चुकी है। किताब में आखिर ऐसा क्या है, जिस पर कांग्रेस को आपत्ति है? अंग्रेजी प‌त्रिका आऊटलुक की वेबसाइट पर किताब के नमूने प्रकाशित किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *