सीबीएसई के छात्रों को नौवीं और दसवीं में कई चैप्टर से मुक्ति, द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल्स शामिल

सीबीएसई के छात्रों को नौवीं और दसवीं में कई चैप्टर से मुक्ति मिल जायेगी। इन चैप्टर से वार्षिक परीक्षा में प्रश्न नहीं पूछे जायेंगे। नये सत्र में संस्कृत, अंग्रेजी, नागरिक शास्त्र और भूगोल के कई चैप्टर हटा दिये गये है। मगर इन चैप्टर की पढ़ाई कक्षाओं में होगी और इससे आंतरिक परीक्षा में सवाल भी पूछे जायेंगे।

नौवीं के बाद इस बार दसवीं में भी संस्कृत की किताब बदल दी गयी है। डीएवी संस्कृत के शिक्षक बिमलेश कुमार ने बताया कि पहले दसवीं में मर्णिका किताब चलती थी। मगर नये सत्र से अब शेमुसी नाम की किताब से छात्रों को पढ़ाया जायेगा। इसमें संस्कृत व साहत्यि अधिक पढ़ने को मिलेगा। वहीं व्याकरण विथी में व्याकरण के कुछ चैप्टर दिये गये है।

नागरिक शास्त्र के शक्षिक शैलेंद्र कुमार तिवारी ने बताया कि आठ चैप्टर में से सिर्फ छह चैप्टर से ही बोर्ड की परीक्षा में प्रश्न पूछे जायेंगे। इसमें लोकप्रिय संघर्ष एवं आंदोलन से लेकर लोकतंत्र की चुनौतियां से प्रश्न वार्षिक परीक्षा में नहीं पूछा जायेगा। जबकि इन विषयों से 20 अंक का स्कूल स्तर पर होने वाली परीक्षा में सवाल पूछे जायेंगे।

इसी तरह भूगोल में भी छह चैप्टर में से एक जल संसाधन विषय को अलग किया गया है। अंग्रेजी के शिक्षक अंशुमन साह ने बताया कि अंग्रेजी से इस बार नॉवेल को हटाया गया है। जिसमें स्टोरी ऑफ माय लाइफ और द डायरी ऑफ ए यंग गर्ल्स शामिल था। उन्होंने बताया कि सीबीएसई अब तक अंग्रेजी के पैटर्न को लेकर कोई निर्देश जारी नहीं किया है। जिससे यह पता चल पाये कि किस तरह वार्षिक परीक्षा की तैयारी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......