January 22, 2022

Naugachia News

THE SOUL OF THE CITY

भागलपुर रेलवे स्टेशन पर VIP वेटिंग रूम में ठहरने के लिए एक महिला बन गयी फर्जी बांका की सांसद

भागलपुर रेलवे स्टेशन का एक दिलचस्प वाक्या सामने आया है, जब VIP वेटिंग रूम में ठहरने के लिए एक महिला फर्जी सांसद बन गई। अधिकारियों को झांसा देकर एक रात तो ठहर गई, लेकिन जब दूसरी रात ठहरने पहुंची तो भंडा फूट गया। मामला बुधवार देर शाम का है।

बताया जाता है कि खुद को बांका की सांसद बता कटोरिया के घरमोरा की रहने वाली आयशा खातून मंगलवार रात भागलपुर रेलवे स्टेशन के VIP रूम में ठहरने के लिए पहुंची। उस पर बिना शक किए अधिकारियों ने VIP वेटिंग रूम में ठहरने की इजाजत दे दी। 24 घंटे तक वहां गुजारने के बाद वह फिर बुधवार को ठहरने पहुंच गई। अपने को बांका की सांसद बताया और कमरा नहीं देने पर प्रधानमंत्री को फोन कर देने की धमकी दी, लेकिन इस बार कर्मचारियों को शक हो गया और उन्होंने उसे ठहरने की अनुमति नहीं दी। उसके कागजों की जांच की गई तो मामला संदिग्ध लगा। हालांकि, वह देर रात तक स्टेशन प्रबंधक के कक्ष में बैठी रही। इस दौरान वह बार-बार खुद को सांसद बताती रही।

महिला ने अपने गले में एक आई कार्ड लटका रखा था, जिस पर भारतीय जनता पार्टी लिखा है। साथ ही उसकी फोटो के साथ उसका नाम आयशा खातून और उस नाम के नीचे मेम्बर ऑफ पार्लियामेंट, बिहार लिखा है। उस आई कार्ड पर पता के रूप में भरमोरा, पोस्ट और थाना कटोरिया, जिला- बांका लिखा है।

बता दें, इस वक्त बांका से जनता दल यूनाईटेड के गिरधारी यादव सांसद हैं।

श्रम कार्यालय के नाम लिखा हुआ आवेदन भी मिला

यही नहीं महिला के पास से भागलपुर श्रम कार्यालय के नाम लिखा हुआ आवेदन मिला है। श्रम विभाग ने उसका आवेदन बांका के श्रम आयुक्त को फॉरवर्ड किया है। महिला के पास प्रधानमंत्री को लिखा एक पत्र भी मिला। पत्र में उसने लिखा है कि उसे सांसद रहते हुए भी आवास का आवंटन और वेतन का भुगतान नहीं हुआ है। आधार कार्ड पर उसके पति का नाम जाकिर अंसारी है। एक पत्र में उसने खुद को सांसद के साथ विधायक भी दिखाया है।

महिला के गले में यही आई कार्ड लटका मिला।
महिला के गले में यही आई कार्ड लटका मिला।

महिला को स्टेशन से बाहर कर दिया गया

स्टेशन मास्टर विक्रम सिंह ने बताया, ‘रेलवे प्रशासन को संदेह होने पर इसकी सूचना रेल विभाग के वरीय पदाधिकारियों को दी गई। पदाधिकारियों के निर्देश पर महिला से पूछताछ की गई और फिर उसे स्टेशन से बाहर कर दिया गया। सुबह तक वमहिला स्टेशन पर ही नजर आई। वह कब आई किस ट्रेन से आई और अब वह कहां गई, यह पता नहीं।’

BJP जिलाध्यक्ष ने कहा- जानकारी नहीं

भागलपुर BJP के जिला अध्यक्ष रोहित पांडे ने बताया, ‘मुझे उस महिला के बारे में कुछ विशेष जानकारी नहीं है। अगर वह प्रधानमंत्री के सुरक्षा घेरे में प्रवेश कर गई थी तो यह प्रशासनिक स्तर पर जांच का विषय है, लेकिन साथ ही जब वह खुद अपने आपको बांका का सांसद कह रही है तो इस बात को लेकर उनकी मेडिकल जांच भी होनी चाहिए। कहीं वह मानसिक रूप से बीमार तो नहीं है। BJP से उसका क्या संबंध है, मुझे इस बात की जानकारी नहीं है।

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है