January 24, 2022

Naugachia News

THE SOUL OF THE CITY

बिहार में सर्दी का सितम.. पूरे राज्य में गिरा पारा, अब कोल्ड डे का खतरा..

मौसम विभाग ने बच्चों और बुजुर्गों को लेकर अलर्ट जारी किया है। हवा के प्रभाव से बिहार में रात और दिन के तापमान में अंतर कम हो रहा है। साथ ही सर्द हवाओं से कनकनी बढ़ रही है। ऐसे में थोड़ी सी लापरवाही भी सेहत पर काफी भारी पड़ सकती है। पटना में सुबह से ही कोहरा छाया हुआ है। साथ ही 5 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल रही है, जिससे ठंड का प्रभाव बढ़ रहा है।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक राज्य के न्यूनतम तापमान में अगले 3 दिनों तक कोई विशेष परिवर्तन नहीं होगा। उसके बाद राज्य आंशिक बादल का प्रभाव बढ़ेगा। इसके कारण रात के तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि देखी जा सकती है।

न्यूनतम तापमान में 2-3 डिग्री की गिरावट

मौसम विभाग के मुताबिक, राज्य में लगातार शुष्क मौसम बना हुआ है। बीते 24 घंटे में न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री की गिरावट देखी गई। यह 8 से 12 डिग्री के बीच बना रहा। वहीं, अधिकतम तापमान में कोई खास परिवर्तन नहीं हुआ है। दक्षिण बिहार में अधिकतम औसत तापमान 17 से 21 डिग्री के बीच तथा उत्तर बिहार में 14 से 17 के बीच रहा है।

मौसम विभाग का कहना है कि राज्य के अधिकांश भागों में शीतलहर या शीत दिवस की मापदंड पूरा नहीं होते हैं, लेकिन पश्चिम दक्षिण पश्चिम हवा के प्रवाह के कारण हवा से कनकनी बढ़ गई है। साथ ही अधिकतम और न्यूनतम तापमान का अंतर भी कई जगहों पर काफी कम हो गया है। इस कारण से शीतलहर जैसी स्थिति बनी हुई है। विशेष रुप से बच्चों और वृद्ध व्यक्तियों के लिए ठंड से बचाव को लेकर अलर्ट किया है।

फारबिसगंज सबसे अधिक सर्द

राज्य के न्यूनतम तापमान में दो-तीन दिन में कोई बदलाव होने की संभावना नहीं है। इसके बाद ही तापमान में कोई बदलाव दिखेगा। फारबिसगंज लगातार दूसरे दिन भी राज्य में सबसे ठंड स्थान रहा। यहां का न्यूनतम तापमान 8 डिग्री से. दर्ज की गई।

कई जिलों में कड़ाके की ठंड

तापमान गिरने और दक्षिण-पश्चिम हवाओं के चलते राज्य के कई जिलों में कड़ाके की ठंड बढ़ गई है। समस्तीपुर के पूसा का पारा 8.2 डिग्री से., बांका 8.7 डिग्री से., नालंदा का हरनौत 8.7 डिग्री से., गया 9 डिग्री से., नवादा 9.4 डिग्री से., बेगूसराय 9.5 डिग्री से.दर्ज किया गया है।

डॉक्टर ने कहा- रहें सावधान

पटना के फिजीशियन डॉ राणा एसपी सिंह का कहना है, ‘मौसम बच्चों और बुजुर्गों के लिए खतरनाक है। इसमें हार्ट शुगर और सांस के रोगियों को काफी सावधान रहना होगा। थोड़ी सी लापरवाही अस्पताल तक पहुंचा सकती है। ठंड में कपड़ों का ख्याल रखा जाए और बच्चों को लेकर विशेष सावधानी बरती जाए। इस दौरान कोरोना संक्रमण भी है, ऐसे में सेहत को लेकर काफी सावधान रहने की जरूरत है। खान-पान के साथ फिजिकल एक्टिविटी पर ध्यान दिया जाए

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है