नवगछिया : तीसरे लहर के लिए तैयार है स्वास्थ्य विभाग.. आक्सीजन प्लांट का काम अंतिम

नवगछिया : नवगछिया अनुमंडल अस्पताल के पोस्टमार्टम हाउस में मृतक के परिजनों और स्वीपर की किचकिच अब हमेशा के लिए खत्म होने जाने की उम्मीद जगही है. शुक्रवार को नवगछिया अनुमंडल अस्पताल पहुंचे भागलपुर के सीएस डा उमेश शर्मा ने इस समस्या पर कहा कि स्वीपर को अब पैसे स्वास्थ्य विभाग द्वारा दिया जायेगा. उन्होंने मौके पर ही मौजूद नवगछिया अस्पताल के उपाधीक्षक डा अरूण कुमार सिन्हा को मामले को आवश्यक कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है. मालूम हो कि अक्सर देखा जाता है कि जब किसी मृतक के परिजन पोस्टमार्टम करवाने नवगछिया अनुमंडलीय अस्पताल आते हैं तो उनसे स्वीपर द्वारा अनाप शनाप पैसे की मांग की जाती है.

 


स्थिति ऐसी हो जाती है कि मृतक के शोक संतप्त परिजन पैसे देने से मना कर देते हैं तो मृतक का पोस्टमार्टम ही शुरू नहीं हो पाता है. थक हार कर परिजनों को पैसे देने ही पड़ते हैं. ऐसा नहीं कि सिर्फ आम लोगों का यह हाल है. अगर किसी थाना क्षेत्र में लावारिस लाश मिले और पुलिसकर्मी भी मृतक का पोस्टमार्टम करवाने आते हैं तो उनसे भी पैसे लिये जाते हैं. अनुमंडल अस्पताल प्रशासन का इस बाबत कहना था कि स्वीपर प्राइवेट स्टॉफ है और विभाग या सरकार द्वारा उसे किसी भी तरह का मेहनताना नहीं मिलता है. इसलिए पोस्टमार्टम करवाने आये परिजनों से ही रकम दिलवाना मजबूरी है. भागलपुर के सीएस उमेश शर्मा द्वारा अस्पताल उपाधीक्षक को इस संदर्भ में निर्देश दिये जाने के बाद उम्मीद जगी है कि अब मृतक के परिजनों का शोक की स्थिति में दोहन नहीं होगा.

 

तीसरे लहर के लिए तैयार है स्वास्थ्य विभाग

भागलपुर के सीएस उमेश शर्मा ने कहा कि कोरोना के तीसरे लहर के लिए स्वास्थ्य विभाग तैयार है. आक्सीजन प्लांट का काम अंतिम चरण में है तो दूसरी तरफ बेड भी तैयार रखने का निर्देश दिया गया है. सीएस ने कहा कि फिलहाल ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लें और ज्यादा से ज्यादा लोगों का कोरोना जांच हो इसके लिए विभाग मुस्तैदी से काम कर रहा है.

सीएस ने कहा कि नवगछिया अनुमंडल अस्पताल के पूर्व उपाधीक्षक डा बरूण द्वारा अस्पताल के बदलाव के लिए किये गये कार्यों की वे जांच करने आये थे. उन्होंने नवगछिया पीएसची में पदाधिकारियों के साथ बैठक पर सभी बिंदुओं पर विचार किया गया है. डा बरूण द्वारा किये गये निजी स्तर पर खर्च की गयी राशि का भुगतान करने की प्रक्रिया की जायेगी. मौके पर अस्पताल उपाधीक्षक डा अरूण कुमार सिन्हा, पीएचसी प्रभारी डा बरूण कुमार, अमित कुमार समेत अन्य की भी मौजूदगी देखी गयी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है