December 8, 2021

Naugachia News

THE SOUL OF THE CITY

नवगछिया अनुमंडल के रंगरा, इस्माइलपुर की 10 ग्रामीण सड़कें क्षतिग्रस्त, बनाई गई पुलिया भी ध्वस्त

इस साल आई बाढ़ में नवगछिया अनुमंडल के रंगरा, इस्माइलपुर की 10 ग्रामीण सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई थीं। चार माह बाद भी विभाग इन सड़कों की मरम्मत नहीं कराई है। इससे करीब दो लाख से अधिक आबादी को आवागमन में दिक्कत हो रही है। इन सड़कों पर बनाई गई पुलिया भी ध्वस्त हो गई थी। इससे चार पहिए वाहनों का आवागमन लगभग बंद है। हालात यह है कि बाइक सवार इन सड़कों पर बने गड्ढे में गिरने से जख्मी हो रहे हैं। रंगरा के चापर से शेरमारी व पकड़ा जाने वाली सड़क की जर्जर होने से यहां के लोगों को एनएच 31 तक जाने के लिए 5 किलोमीटर की अधिक दूरी तय करनी पड़ती है। वहीं डुमरिया-तीनटंगा दियारा की सड़क की हालत सबसे खराब है। इसके अलावा तीनटंगा दियारा उत्तरी, तीनटंगा दियारा दक्षिणी, सुकटिया बाजार, डुमरिया चपरघट आदि पंचायतों की ग्रामीण सड़कों की भी यही स्थिति है।

इस मार्ग पर बनी दो पुलिया क्षतिग्रस्त हो गई थी।

जिससे कि सधुआ चापर एवं कटिहार जिले के शाहपुर धर्मी पंचायत की 25000 की आबादी को आवागमन में घोर परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इधर, इस्माइलपुर-बिंद टोली के बीच डिमाहा गांव के निकट 200 मीटर में तटबंध ध्वस्त होने से इस्माइलपुर की भी कई ग्रामीण सड़कें क्षतिग्रस्त हो गई थीं। नवगछिया से इस्माइलपुर जाने वाली ग्रामीण सड़क जफरू दास टोला में कब्रगाह के निकट पुलिया सहित 150 मीटर ध्वस्त हो गई थी। वहीं परबत्ता-इस्माइलपुर सड़क की तीनों पुलिया टूट गई थी। चंडीस्थान से केलाबाड़ी सड़क दो जगह ध्वस्त हो गई थी। इसके अलावा बसगढ़ा-विनोबा सड़क भी क्षतिग्रस्त हो गई थी। लेकिन अब तक इन सड़कों की मरम्मत नहीं हो पाई है।

नवगछिया में पथ निर्माण विभाग की सड़कों की हालत भी खराब

नवगछिया अनुमंडल के पथ निर्माण विभाग द्वारा बनाए गए महादेवपुर घाट व रंगरा सहित कई अन्य सड़कें भी बाढ़ के पानी के दबाव के कारण कई जगह ध्वस्त हो गई हैं। विभाग के अभियंताओं की टीम ने इन सड़कों का निरीक्षण के बाद गड्ढों को भर खानापूर्ति की है। लेकिन कुछ दिन बाद ही फिर से कई जगह गड्ढे बन गए हैं। मगर इन सड़कों का निर्माण अब तक शुरू नहीं हुआ है।

डुमरिया-तीनटंगा सड़क निर्माण के लिए एक साल पहले हुआ था टेंडर, अब तक काम शुरू नहीं

डुमरिया- तीनटंगा दियारा जाने वाली सड़क के निर्माण के लिए एक साल पहले ही टेंडर हो चुका है। लेकिन अब तक ठेकेदार ने काम शुरू नहीं कराया है। इस सड़क के निर्माण के लिए ग्रामीणों ने डुमरिया स्थित पुल पर आमरण अनशन किया था। 3 दिन बाद ग्रामीण पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता के आश्वासन पर अनशन समाप्त हुआ था। मगर विभाग की ओर से इस सड़क को बनाने के लिए अब तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। लिहाजा ग्रामीण आंदोलन के लिए गोलबंद हो रहे हैं। तीनटंगा दियारा उत्तरी के नवनिर्वाचित मुखिया सिकंदर दास एवं दक्षिणी के नवनिर्वाचित मुखिया गणेश मंडल ने कहा कि सड़क का निर्माण जल्द शुरू नहीं हुआ तो उग्र आंदोलन करेंगे।
200

चोर चोर चोर.. कॉपी कर रहा है