एड्स की तरह क्या यौन संबंध बनाने से हो सकता है Coronavirus ? मरीजों पर किए गए शोध

बेंगलुरु।दुनिया भर के देशों में कोविड 19 यानी की कोरानावायरस का संक्रमण बढ़ता ही जा रही हैं। वहीं कोरोनावायरस कैसे फैलता हैं इसको लेकर अब कई नई बहस शुरु हो गई है उसमें ये भी बहस का मुद्दा हैं कि क्या सेक्स से कोरोना वायरस का संक्रमण फैला सकता है कि नहीं। बता दें वैज्ञानिक हमारे शरीर में कोरोनावायरस कैसे प्रवेश करता हैं क्या ये सार्स और एचआई एड्स जैसे इसमें भी क्या यौन संबंध के द्वारा व्‍यक्ति कोरोना संक्रमण का शिकार हो सकता हैं ।क्या यह एचआईवी, इबोला या जीका की तरह यौन संचारित हो सकता है?

क्या कोरोनावायरस एक अन्य यौन संचारित वायरस है

क्या कोरोनावायरस एक अन्य यौन संचारित वायरस है बता दें अभी तक कोरोना मरीजों की हिस्‍ट्री के आधार पर जो स्पष्ट है वह यह है कि कोरोनोवायरस मनुष्यों की सामान्य स्वस्थ त्वचा के माध्यम से प्रवेश नहीं कर सकता है। यह अभी भी पूरी तरह से समझा नहीं गया है कि कोरोनवायरस का संक्रमण वास्तव में किसी व्यक्ति के शरीर में कैसे प्रवेश करता है। बहस का ताजा बिंदु यह है कि क्या कोरोनावायरस एक अन्य यौन संचारित वायरस है।

हाल में किया गया ये शोध

हाल ही में वैश्विक वायरल फैलने के दौरान इबोला और जीका में वैज्ञानिकों ने पाया कि वायरस के कारण होने वाली बीमारी यौन संचारित हो सकती है। शोध में पाया गया कि बीमारी के ठीक होने के बाद इबोला और जीका वायरस एक मरीज के वीर्य में महीनों तक जीवित रह सकते हैं। लेकिन कोरोनोवायरस महामारी की शुरुआत चीन के शहर वुहान से हुई वहां के कोविद -19 रोगियों पर एक अध्ययन किया गया जिसमें मानव शुक्राणु में रोगजनक वायरस का कोई निशान नहीं मिला है।

गंभीर कोरोना मरीजों के वीर्य तक पहुंच सकता हैं कोरोना वायरस

हालांकि अध्ययन केवल 34 कोविड -19 रोगियों के मरीजों पर किया गया जिसमें ये परिणाम निकल कर आए। इसके अलावा, इन सभी 34 कोरोना रोगियों में हल्के लक्षण दिखाई दिए थे। शोधकर्ताओं ने अपने निष्कर्ष में कहा, कि “दुर्भाग्य से, हम निश्चित रूप से गंभीर कोरोना लक्षणों के साथ तीव्र संक्रमण के दौरान सेरनल-सीओवी -2 की उपस्थिति को वीर्य में नहीं बता सकते हैं। लेकिन कोरोनावायरयस के गंभीर मरीज के सीमेन यानी वीर्य में भी कोरोना वायरस मिल सकता हैं।

क्या पुरुष के प्रजनन शक्ति पर प्रभाव डालता हैं

शोधकर्ताओं ने कहा, “लक्ष्य कोशिकाओं में SARS-CoV-2 की ACE2 की मध्यस्थता वायरल का प्रवेश करना ACE2 और TMPRSS2 अभिव्यक्ति के आधार पर मानव अंडकोष के भीतर होने की संभावना नहीं है। शोध में ये भी खुलासा किया गया है कि पुरुष पर दीर्घकालिक प्रभाव उसकी प्रजनन शक्ति पर पर पड़ेगा कि नहीं इसके लिए कुछ कहा नहीं जा सकता। छह रोगियों (19 प्रतिशत) ने कोरोना पॉजि‍टिव पाए जाने वाले मरीजों में वायरल ऑर्किटिस (अंडकोष में सूजन) की शिकायत पाई गई।

आंखों और नाक से प्रवेश करता हैं कोरोना वायरस

बता दें ACE2 और TNPRSS2 दो प्रोटीन हैं जो कोरोनावायरस एक व्यक्ति के शरीर की कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए उपयोग करता है। इन प्रोटीनों के उच्च घनत्व वाले बाहरी शरीर के अंग विशेष रूप से कोरोनवायरस के लिए कमजोर होते हैं, और इस तरह कोरोना के लिए प्रवेश द्वार बन सकते हैं। इम्पीरियल कॉलेज लंदन, वेलकम सेंगर इंस्टीट्यूट, यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर ग्रोनिंगन, यूनिवर्सिटी कोटे डी’ज़ूर और सीएनआरएस द्वारा पिछले सप्ताह प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि नाक और आंखों में कोरोनवायरस के प्रवेश बिंदु होने की संभावना है।

कैसे आंखों को करता हैं प्रभावित

शोधकर्ताओं ने कहा कि कोरोनावायरस को मानव शरीर की कोशिकाओं में प्रवेश करने के लिए ACE2 और TMPRSS2 की आवश्यकता होती है। ACE2 एक रिसेप्टर प्रोटीन है, जिसे कोरोना स्वयं देता है। इसके बाद, TMPRSS2 एक बॉडी सेल में वायरस के प्रवेश को सक्रिय करता है। अध्ययन में पाया गया कि नाक में दो विशिष्ट प्रकार की कोशिकाएं – -ब्बलट और सिलिअटेड – अंग कोरोनोवायरस के लिए अतिसंवेदनशील बनाते हैं क्योंकि उनके पास प्रोटीन को सुविधाजनक बनाने का एक उच्च घनत्व होता है, जो मानव शरीर के कार्यों के लिए ACE2 और TMPRSS2 भी मानव आंखों की कॉर्निया कोशिकाओं में अच्छी संख्या में पाए जाते हैं। यह कोरोनोवायरस के लिए आंखें और आंसू नलिकाएं संभावित प्रवेश बिंदु बनाता है। मुंह को सीधे नाक और फेफड़ों से जोड़ा जाता है, जिससे यह कोरोनावायरस के प्रवेश के लिए एक और प्रवेश द्वार बन जाता है। इनेफगस, इलियम (छोटी आंत) और कोलन में भी सक्षम प्रोटीन पाए जाते हैं।

मल के अवशेषों में कितने दिन तक सक्रिय रहता है

कोरोना शोधकर्ताओं ने कोरोनवायरस के मल में जीवित रहने की क्षमता पर अध्‍ययन किया इससे पहले, एक अध्ययन में पाया गया था कि मल के अवशेषों में 11 दिनों तक सक्रिय रह सकता है। दिल के ऊतकों में प्रोटीन को सक्षम करने की उपस्थिति एक संभावित व्याख्या हो सकती है कि क्यों कोरोनोवायरस पहले से मौजूद हृदय की समस्याओं वाले लोगों के लिए अधिक घातक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......