आज बुद्ध पूर्णिमा पर लग रहा साल का पहला चंद्र ग्रहण, ला रहा यास तूफान

आज 26 मई दिन बुधवार को इस साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है. आज वैशाख शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि है. इसी दिन बुद्ध पूर्णिमा मनाया जाता है . साल का पहला चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र में लगेगा. वहीं, चंद्र ग्रहण से पहले 23 मई 2021 को शनिदेव वक्री हो चुके हैं. शनि वर्तमान समय में मकर राशि में गोचर कर रहे हैं. शनि वक्री होने के बाद सूर्य का नक्षत्र परिवर्तन हुआ है. सूर्य कृतिका नक्षत्र से निकल कर 25 मई दिन मंगलवार को रोहिणी नक्षत्र में प्रवेश कर चुके हैं. माना जाता है कि सूर्य जब रोहिणी नक्षत्र में आते हैं तो मौसम पर इसका प्रभाव पड़ता है. चंद्र ग्रहण आज दोपहर 2 बजकर 17 मिनट पर आरंभ होगा और शाम 7 बजकर 19 मिनट तक रहेगा. इस ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होगा. ज्योतिष शास्त्र में चंद्र ग्रहण को प्रमुख घटना माना गया है. इस खगोलीय घटना का सभी राशियों पर प्रभाव पड़ता है

26 मई, बुधवार को बुध पूर्णिमा (Buddha Purnima) के अवसर पर पूर्ण चंद्रग्रहण लगने वाला है. लेकिन भारत में यह आंशिक रूप से दिखेगा. भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के मुताबिक यास तूफान (Yaas Cyclone) के दौरान पूर्वोत्तर भारत के अलावा पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों, ओडिशा के तटीय क्षेत्र व अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के पास थोड़ी देर के लिये चंद्र ग्रहण का नजारा दिख सकता है. जिसकी शुरूआत दोपहर 3 बजकर 15 मिनट से होगी और समाप्त शाम 6 बजकर 23 मिनट तक होगी.

विदेश में कहां-कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण

आईएमडी के मुताबिक पूर्ण रूप से चंद्र ग्रहण उत्तर अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अंटार्कटिका, प्रशांत महासागर तथा हिंद महासागर में नजर आने वाला है.

देश में कहां-कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण

आईएमडी के अनुसार सिक्किम को छोड़कर भारत में पूर्वोत्तर हिस्सों में यह दिख सकता है. साथ ही साथ पश्चिम बंगाल, ओडिशा व अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में इसका आंशिक चरण का समापन कुछ देर के लिये नजर आएगा.”

चंद्रग्रहण का समय

ग्रहण का आंशिक रूप से सवा तीन बजे शुरू हो जाएगा. जबकि शाम छह बजकर 23 मिनट पर समाप्त भी हो जायेगा. वहीं, पूर्ण चरण शाम 4 बजकर 39 मिनट पर शुरू होने वाला है. जो शाम चार बजकर 58 मिनट तक रहेगा.

कितनी देर के लिए दिखेगा ग्रहण

पोर्ट ब्लेयर से इस ग्रहण को शाम 5.38 मिनट से 45 मिनट तक के लिये देखा जा सकता है. जबकि, पुरी और मालदा में यह 6 बजकर 21 मिनट पर दिखाई देगा. हालांकि, यहां नजारा सिर्फ दो मिनट के लिये दिखाई देगा.

अगला चंद्रग्रहण कब

देश में अगला चंद्र ग्रहण 19 नवंबर 2021 को दिखने वाला है. आपको बता दें कि यह भी आंशिक चंद्रग्रहण होगा. जो चंद्रोदय के ठीक बाद अरुणाचल प्रदेश और असम के पूर्वोत्तर हिस्सों में बेहद कम समय के लिये आंशिक फेज में नजर आ सकता है.

इस साल कितने ग्रहण, कब होता है चंद्र ग्रहण

इस साल कुल चार ग्रहण पड़ने वाले है. जिनमें दो चंद्र तो दो सूर्य ग्रहण होगा. आपको बता दें कि चंद्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन ही पड़ता है. दरअसल, चंद्र ग्रहण की स्थिति तब उत्पन्न होती है जब सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आ जाती है. अर्थात ये तीनों ग्रह एक दूसरे के सीध में होते है. इसे लेकर धार्मिक व वैज्ञानिक मान्यताएं भी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......