ट्रेक्टर चलाना है, तो देनी होगी रंगदारी

रंगदारी लेते फोटो और वीडियो हुआ वाइरल
पुलिस कुछ बताने से कर रही पहरेज
ट्रेक्टर चालकों ने रैक पॉइंट पर सीसीटीवी लगाने का किया मांग
पुलिस की नाक के नीचे वसूला जाता है रंगदारी
रंगदारों के पास ट्रेक्टरों की रहती है सूची
23 naugachia raik point pr paisa wsuli krta yuwk

नवगछिया : रेक पॉइंट पर माल आने की सबसे अधिक चिंता ट्रेक्टर चालकों को छोड़ ट्रेक्टर से रंगदारी वसूलने वाले रंगदारों को रहती है, प्रति ट्रेक्टर 30 रुपये और ट्रक से 200 रुपये प्रति ट्रेक्टर रंगदारी वसूलने वाले रंगदारों के पास रैक लोइंट में चलने वाले ट्रेक्टरों के नंबर की सूचि उपलब्ध रहती है जिससे वह हर ट्रिप में 30 रूपये की रंगदारी वसूल कर उसके आगे सही का निशान लगा देते हैं, रैक पॉइंट पर  रंगदारी वसूलने का मामला तूल पकड़ने के साथ ही प्रसासन द्वारा इस संबंध में अपना पल्ला झरता नजर आ रहा है,इसकी सत्यता को लेकर गुरुवार को जब रैक पॉइंट पर रंगदारी वसूलने के मामले में  स्टिंग किह गया तो जो सामने आया वह बहुत ही सरल सा दिख रहा था, जिसे कैमरे में कैद भी कर लिया गया, रैक पॉइंट से ट्रेक्टर द्वारा खाद लोड कर बाहर निकलने समय रोड पर ही कुर्सी लगाकर बैठे रंगदारों द्वारा पहले रोक जाता है, फिर अपनी सूची के अनुसार ट्रेक्टर का नंबर मिलाकर उससे 30 रूपये की राशि भी वसूली की जाती है. यही नहीं अगर किसी ट्रेक्टर वाले के पास रंगदारी का पुराना पैसा बांकी बो तो उस गारी नंबर के आगे बकाया लिखकर अगले दिन वसूली जाता है, जिसे ट्रेक्टर चालक दे भी देते है, रैक पॉइंट से बाहर निकले के क्रम बात के दौरान रंगदारों के भय से नाम नहीं बताने के सर्त पर कहा कि राजेश यादव, सुरेंद्र यादव व विनोद यादव द्वारा जितनी बार ट्रेक्टर लेकर जाते है, उतनी बार 30 रुपया देना होता है, अगर 30 रुपये नहीं देते हैं तो ट्रेक्टर को साइड करवा दिया जाता है,  30 रुपये देने मजबूरी बन गया है वही ट्रेक्टर चालकों ने बताया कि रंगदारी 30 रुपये लेने तक ही सिमित नहीं है,  आलम यहाँ तक है कि जिस ट्रेक्टर पर 200 बोरा खाद आसानी से लोड हो जाता है, उसमे  जबरन 250 बोरा खाद लदवाया जाता है, जिससे कई बार दुर्घटना भी हो चुकी है, इसको लेकर नवगछिया अनुमंडल पदाधिकारी राघवेन्द्र सिंह को भी आवेदन दिया गया है. मगर अबतक किसी प्रकार की कोई भी करवाई नहीं हुई है, अब आलम यह है कि रंगदारों का मनोबल बढ़ता ही जा रहा है, जब चाहे किसी का भी ट्रेक्टर थाना के हवाले करवा दिया जाता है. वहीं ट्रेक्टर चालकों ने कहा की है कि रैक पॉइंट पर सीसी टीवी कैमरा लगवाया जाय जिससे रैक पॉइंट पर होने वाली सभी गतिविधि पर प्रसासन की नजर बनी रहे, वहीँ ट्रेक्टर चालकों ने कहा कि तीनों रंगदार को  रेक पॉइंट से हटाया जाय नहीं तो कभी भी बड़ी घटना हो सकती है.

क्या कहते हैं जीआरपी

जीआरपी थाना प्रभारी को फोन कर इस मामले में पूछने पर फोन जीआरपी के छोटा बाबू ने उठाया कहा की आवेदन देने के बाद कारवाई की जायेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......