आरपीएफ ने की कारवाई, रंगदार को किया गिरफतार

मामला रेक प्वाईट का
रंगदारी वसूलने मामले में राजेश यादव को किया गिरफतार
एसडीओ ने किया रेक प्वाईट की जांच
अन्य बचे दो आरोपीयो की गिरफतारी जल्द

 savings2_505_050312051650
नवगछिया : रेक प्वाईट पर रंगदारी वसूलने मामले में जहा जीआरपी इसे खारीज कर रही थी. वही गुरूवार को आरपीएफ इंस्पेक्टर जावेद अहमद ने कारवाई करते हुये रेक प्वाईट पर रंगदारी वसूल करने के मामले मेे सामने आये नाम राजेश यादव, इन्द्रदेव यादव व सुरेन्द्र यादव तीनेा में से राजेश यादव को रेक प्वाईट से गिरफतार कर लिया गया. जबकी इसकी जानकारी जीआरपी थाना को भी नही चल सकी राजेश की गिरफतारी के बाद रेक प्वाईट पर जांच करने पहुचे अनुमंडल पदाधिकारी राघवेन्द्र सिह ने मौके पर मौजूद गाडी व रशिद काटने वालो की जाँच पडताल भी कि मालूम हो की ट्रैक्टर से रंगदारी मांगने व ट्रैक्टर चालक से मारपीट करने को लेकर एसडीओ व डीएसपी को आवेदन दिया गया था. जिसके बाद गुरूवार को एसडीओ खुद रेक प्वाईट पर पहुच गये उस समय एफसीआई का चावल ट्रैक्टर पर लोड हो रहा था. जिसके बाद कागजो की जांच की गई. वही रंगदारी मामले में गिरफतार हुये राजेश यादव के बाद अन्य आरोपीयो की गिरफतारी की बात भी जीआरपी को कही. रेक प्वाईट पर कारवाई के बाद रेक प्वाईट पूरी तरह खाली नजर आने लगा असमाजिक तत्व रेक छोड फरार हो गये. सबसे बडा मामला यह है की जीआरपी के अनुसार अगर रेक प्वाईट पर रंगदारी वसूली नही जा रही थी तो इस कारवाई से कैसे रंगदार को गिरफतार कर लिया गया. आरपीएफ ने रंगदारो पर नकेल कसने के लिये गिरफतारी तो कर ली मगर मामला क्षेत्रा धिकार में आ कर फस जाता है. जबकी रेक प्वाईट पर इस तरह की कारवाई जीआरपी को करनी चाहिये थी. मगर आज तक कारवाई के नाम पर तीन लाठी पार्टी देने की बात कर कर पल्ला झाड लिया जाता रहा.

रेल एसपी भी बनाये हुये है मामले पर नजर

 रंगदारो के विरूध आरपीएफ की कारवाई करते हुये राजेश यादव की गिरफतारी की जानकारी रेल एसपी को भी थी वह पूरे मामले की मौनिट्रीग कटिहार में बौठ कर कर रहे थे. पल पल की जानकारी उन तक पहुच रही थी.

 क्या कहते है आरपीएफ इंस्पेक्टर

 नवगछिया आपीएफ स्पैक्टर जावेद अहमद ने कहा की लगातार रेक प्वाईट पर रंगदारी लेने मामले में को लेकर आवेदन दिया जा रहा था. जिसको लेकर राजेश यादव को गिरफतार किया गया है. मगर यह हमारे क्षेत्र में नही आता है. इसके बाद भी गिरफतार किया गया है. अगर होगा तो मामला जीआरपी में ट्रास्फर हो सकता है. यह उन्ही के क्षेत्राधिकार का है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......