जानकारी : शरीर के किसी भी अंग में पथरी को कर देंगी जड़ से ख़त्म

आजकल पथरी की समस्या आम हो गयी हैं । आप हैरान होंगें कि इस बीमारी का इलाज भी हमारे घर आंगन में ही हैं । मगर हमारी मानसिकता हो गयी है डॉक्टर के पास भागने की । आओ जानें एक ऐसा उपाय जिसके बाद इस बिमारी में डॉक्टर के पास शायद ही जाना पड़े ।

पत्थरचट्टा नामक पौधा जो हमारे घर के आंगन में नहीं तो पड़ोस के किस आंगन में अवश्य मिल जायेगा । इसे पाखाण भेद भी कहते हैं जिसका अर्थ हैं पथर को तोड़ने वाला । यह पौधा ही पथरी के लिए रामबाण औषधी है । पत्थरचट्टा के 3 पत्तों को सुबह व् शाम को खाली पेट 20 से 25 दिन सेवन करने से पथरी टूट कर निकल

अत: आयुर्वेद अपनाये स्वास्थ्य बचाए । मूत्र संबंधी जितने भी रोग होते हैं उसमें भी पत्थरचट्टा बेहद लाभदायक दवा है । शयन रखें इस औषधि का सेवन करते समय चूना, बिना साफ किये हुए फल और अधिक चावल आदि का सेवन न करें । बता दें कि पथरी की मुख्य वजह कैलशियम होती है । शरीर में अधिक कैलशियम का होना पथरी का कारण बनता है ।

किसी भी होमियोपैथी की दुकान पर Berberis Vulgaris नामक दवा पूछें । साथ में याद रखें – Mother Tincture उसकी पोटेंसी है ।

पोटेंसी मात्र से दुकान वाला समझ जायेगा । बता दें कि Berberis Vulgaris दवा भी पत्थरचट्टा से ही बनी है । तरल रूप में पत्थरचट्टा का botanical name Berberis Vulgaris है ।

इस दवा की 10 बूंदों को एक चौथाई (1/4) कप गुण गुने पानी में मिलाकर दिन मे चार बार (सुबह, दोपहर, शाम और रात) लेना है । चार बार अधिक से अधिक और कम से कम तीन बार । इसे लगातार एक से डेढ़ महीने तक लें, कभी कभी दो महीने भी लग सकते हैं । जीतनी भी पथरी, कहीं भी हो गॉल ब्लेडर (Gall bladder) मे हो या फिर किडनी मे हो, या युनिद्रा के आसपास हो, या फिर मुत्रपिंड मे हो । वो सभी स्टोन को पिगलाकर ये निकाल देता हे ।

दो महीने बाद सोनोग्राफी करवा सकते हैं, उससे आपको पता चल जायेगा कितना टूट गया है, कितना रह गया है । अगर रह गया है तो थोड़े दिन और ले लीजिए । इस दवा का साइड इफेक्ट नहीं है । ये तो हुआ जब पथरी टूट के निकल गई । अब दोबारा भविष्य मे पथरी ना बने उसके लिए क्या ??? क्योंकि कई लोगो को बार बार पथरी होती है ।

एक बार पथरी टूट के निकल जाए अब कभी दोबारा नहीं आना चाहिए इसके लिए क्या ???

इसके लिए एक और होमियोपैथी मे दवा है CHINA 1000 । प्रवाही स्वरुप की इस दवा के एक ही दिन सुबह-दोपहर-शाम मे दो-दो बूंद सीधे जीभ पर डाल लें । सिर्फ एक ही दिन में ही इस दवाई को तीन बार ले लेने से फिर भविष्य मे कभी भी स्टोन नहीं बनेगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......