साबधान: पैन कार्ड वालों पर आने वाली है बड़ी आफत

index

आयकर विभाग की एक जैसे पते, मोबाइल नंबर तथा ई-मेल जैसी सूचनाओं को जुटाकर एक से अधिक पैन (PAN) कार्ड रखने वालों पर नजर है।
आयकर विभाग इस तरह के पैन का पता लगाने के लिये आंकड़ा विश्लेषक कंपनियों का उपयोग करेगा। इस कदम का मकसद कर मामले में खामियों को दूर करना और कर चोरी को पकड़ना है।

विभाग निजी कंपनियों की मदद से पैनधारकों के बीच संबंधों का पता लगाने के लिये नोटबंदी के बाद उपलब्ध आंकड़ों का विश्लेषण करने के लिये निजी कंपनियों से मदद लेगा।
एक अधिकारी ने कहा कि विभाग की मैनेज्ड सर्विस प्रोवाइडर (MSP) की सेवा लेने की योजना है। एमएसपी विश्लेषण संबंधी समाधान उपलब्ध कराएगी जो विभिन्न जानकारियों और आंकड़ों का मिलान करेगी और उसके बीच संबंधों की पहचान करेगी। साथ ही पैन और पैन से इतर आंकड़े को एक जगह करेगी।

विश्लेषण समाधान से विभाग को बैंकों, डाकघरों और अन्य स्रोत से प्राप्त आंकड़ों को सूचनाओं को जोड़ने और फर्जी ब्योरे की पहचान में मदद मिलेगी। अधिकारी ने कहा कि यह आंकड़ों में गड़बडी के बारे में भी पता लगाएगा और उसके बारे में जानकारी देगा।

नोटबंदी के बाद के आंकड़े को जोड़ने और उनके कर रिटर्न, टीडीएस, कर भुगतान जैसे आयकर से जुड़े आंकड़ों के मिलान का उपयोग करदाता के व्यापक प्रोफाइल तैयार करने में किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......