BSSC परीक्षा का प्रश्नपत्र वायरल, SSP ने की परीक्षा रद करने की मांग

पटना :तमाम वादों और कार्रवाई के बावजूद आज फिर से बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की दूसरे चरण की इंटर स्तरीय परीक्षा के पहले ही प्रश्नपत्र व्हाट्सएप पर वायरल हो गए जिसे पहले तो अफवाह बताया गया लेकिन बाद में यह अफवाह सच निकली जब पता चला कि पहला सेट हू-ब-हू वही था, जो परीक्षा में पूछा गया था।

images

परीक्षा से पहले प्रश्नपत्र बाजार में बिके

आज सुबह से ही इस मामले को लेकर पुलिस विभाग और कर्मचारी आयोग के अॉफिस में हड़कंप मचा रहा। जिलाधिकारी और कर्मचारी आयोग की सारी दलीलों को धता बता परीक्षा के प्रश्नपत्र और अांसर शीट बाजारों में हजार-हजार रूपये में बिकने लगे और इस परीक्षा का विवाद इस बार भी बरकरार रहा। बता दें कि आज राजधानी के 72 केंद्रों के अलावा राज्य के 742 केंद्रों पर बीएसएससी की परीक्षा आयोजित की गई थी।

शिक्षामंत्री अशोक चौधरी ने कहा- जांच की जाएगी

इस मामले के उजागर होने पर राज्य के शिक्षामंत्री अशोक चौधरी ने कहा कि यह जांच का विषय है। इस तरह छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ करने की किसी को इजाजत नहीं दी जाएगी। जो भी मसला है, यह जांच के बाद ही सामने आएगा, सच्चाई आने पर कार्रवाई की जाएगी।

एसएसपी ने कहा- छात्रों के भविष्य से खिलवाड़

एसएसपी ने कहा कि परीक्षा के प्रश्नपत्र लीक होने की बात सच साबित होने के बाद आयोग से परीक्षा को रद कराने की अनुशंसा की जाएगी। इससे छात्रों का भविष्य जुड़ा है। उन्होंने कहा कि तमाम कार्रवाइयों के बाद बी प्रश्नपत्र लीक हो जाना जांच का विषय है।

आयोग ने कहा – रद नहीं होगी परीक्षा

वहीं बिहार कर्मचारी चयन आयोग के सचिव परमेश्वर राम ने कहा कि नहीं रद होगी परीक्षा। अभी प्रश्न को देखेंगे उसके बाद निर्णय होगी । परीक्षा रद्द करना कोई खेल नहीं। आयोग के अध्यक्ष ने कहा कि यह केवल अफवाह है, डीएम को मामले की जांच का आदेश दे दिया गया है। जल्द ही यह सच्चाई सबके सामने आ जाएगी।

छात्रों में आक्रोश, कहा- पैसे का हो रहा खेला

दूसरी ओर छात्रों ने कहा कि बीएसएससी की परीक्षा विवादों में रही है, इसे लेकर छात्रों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। एेसी परीक्षा से मेधावी छात्रों को मानसिक आघात लगता है, पैसे का खेल होता है और जैसे-तैसे लोग नौकरी पा जाते हैं। एेसे में अब शायद बिहार में मेधा का कोई मतलब नहीं और अब यहां नौकरी करना भी संभव नहीं दिख रहा है, अधिकारियों की मिलीभगत से मेधावी छात्रों को अब बिहार से पलायन करना होगा।

एक्जाम सेंटर बदलने से परीक्षार्थी रहे परेशान

हर साल यह परीक्षा विवादों के घेरे में रहती आई है। आज सुबह से ही बाजार में हजारों रुपए में वायरल प्रश्नपत्र बिक रहे थे, इसके साथ ही उत्तरपुस्तिका की बिक्री की भी बात सामने आ रही थी। वहीं परीक्षा से आधे घंटे पहले पटना के कई परीक्षा केंद्रों पर अचानक एक्जाम सेंटर बदले जाने से कई परीक्षार्थी परेशान रहे।

मोबाइल और डिवाइस से नकल करा रहे दर्जनों गिरफ्तार

मोबाइल और इलेक्ट्रानिक डिवाइस सिस्टम से बीएसएससी की परीक्षा में नक़ल करा रहे माफिया गिरोह के दो दर्जन सदस्यों को पुलिस गिरफ्तार किया । गिरफ़्तारी गया के वारिसलीगंज बाइपास में एक मकान से हुई । परीक्षा के दौरान ही गिरफ़्तारी हुई।

सासाराम में धराए दो नकलची

सासाराम से मिली जानकारी के मुताबिक बीएसएससी के स्थानीय महिला कॉलेज परीक्षा केंद्र ले तीन परीक्षार्थियों को गिरफ्तार किया गया है। ये लोग व्हाट्सएप से लीक आंसरशीट से नकल कर रहे थे। गिरफ्तार अभ्यर्थियों ने कहा कि सुबह व्हाट्सएप से प्रश्नपत्र और आंसरशीट मिल गया था जिसे वो पेपर पर लिखकर लाए थे।

कल हुई थी गिरफ्तारी, मुख्य सरगना की तलाश जारी

बिहार एसएससी के पेपर लीक मामले में शनिवार को पटना पुलिस के बड़ी कामयाबी मिली थी। हालांकि अभी तक मुख्य सरगना की गिरफ्तारी नहीं हुई है। लेकिन एसएसपी मनु महाराज ने कहा है कि जल्द ही इस सबके मास्टर माइंड पवन की गिरफ्तारी हो जाएगी।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे पेपर

दरअसल, कुछ दिन पहले बिहार एसएससी ने इंटर स्तरीय प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन किया था। परीक्षा शुरू होने के बाद ही सवाल सोशल मीडिया पर वायरल हो गए थे। उसके बाद खूब हंगामा हुआ था। पटना पुलिस ने इस मामले में तीन अपराधियों को अगमकुंआ से गिरफ्तार किया है। इनके पास से कई अत्याधुनिक उपकरण भी बरामद किए हैं, जिसका प्रयोग ये लोग परीक्षा के दौरान करते थे।

ब्लूटूथ हेडसेट को अंडरगारमेंट्स में छिपा कर ले जाते थे

आरोपी नकल के लिए ब्लूटूथ हेडसेट समेत कई उपकरणों को अंडरगारमेंट्स में छिपा कर ले जाते थे। पूछताछ में इन लोगों ने पुलिस के सामने स्वीकार किया है कि गिरोह का सरगना फतुहा का रहने वाला पवन है। इन लोगों ने बताया कि सवाल बटते ही हमारा कोई आदमी परीक्षा हॉल के अंदर जाता था औऱ पढ़कर सारा सवाल सुनाता था। फिर जवाब तैयार कर अंदर भेज दिया जाता था।

वहीं, व्हाट्सएप्प पर परीक्षा पत्र लीक होने के मामले में संदिग्ध टीचर की तलाश अभी भी पटना पुलिस को है। अभी तक पुलिस 13 संदिग्धों को हिरासत में लिया है। उनसे पूछताछ के आधार पर ही ये गिरफ्तारी हुई है।

कहा- एसएसपी मनु महाराज ने

एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि एेसी कोई सूचना तो नहीं मिली है, लेकिन वायरल हो रहे पेपर्स और आंसर शीट्स का परीक्षा के बाद मिलान किया जाएगा और उसके बाद कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि परीक्षाकेंद्रों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है।

राजधानी के 60 हजार समेत राज्यभर में 7.5 लाख परीक्षार्थी इसमें शामिल हुए थे। आज जिलाधिकारी के निर्देशन में परीक्षा का संचालन कराया गया था। सभी परीक्षा केंद्रों पर दंडाधिकारी व पुलिस बल की तैनाती की गई थी।

ज्ञात हो कि पिछले रविवार को आयोजित हुई परीक्षा के दौरान प्रश्नपत्र और इनके हल वायरल हो गए थे। इस कारण इस चरण में सख्त इंतजाम होने की उम्मीद की जा रही थी। केंद्र में प्रवेश से पहले मोबाइल को लेकर सख्त चेकिंग की गई, लेकिन परीक्षा से आधे घंटे पहले प्रश्नपत्र और आंसर शीट वायरल होने के बाद इस परीक्षा को लेकर विवाद अब फिर से शुरू हो चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *