" />

भागलपुर : 500 रुपये के नोट में भरकर पीता था स्मैक…. दारोगा पुत्र समेत पांच युवक चढ़े पुलिस के हत्थे

adv

भागलपुर : इशाकचक पुलिस ने भीखनपुर स्थित आनंदबाग कॉलोनी में बड़े स्मैक कारोबार का पर्दाफाश किया है। इसमें पांच बड़े घरों के युवकों की गिरफ्तारी हुई है। जिसमें से कई के पिता पुलिस व कोर्ट कर्मी हैं। पुलिस ने उनके पास से करीब डेढ़ लाख कीमत की कुल 62 ग्राम स्मैक बरामद की है। आरोपितों को शुक्रवार को जेल भेज दिया गया। गुप्त सूचना मिलने पर एसएसपी आशीष भारती ने सिटी डीएसपी राजवंश सिंह और इशाकचक इंस्पेक्टर संजय कुमार सुधांशू को छापेमारी के लिए लगाया था।

पुलिस ने भीखनपुर में सेवानिवृत एनटीपीसी कर्मी चंद्रशेखर झा के मकान में छापेमारी कर किराए पर रहे है चार युवकों को गिरफ्तार किया। इसमें खगडिय़ा जिले के परबत्ता, भरतखंड निवासी निशांत कुमार चौधरी, मुंगेर जिला के संग्रामपुर, सरकटिया निवासी रोहित कुमार, हवेली खडग़पुर के गालिमपुर निवासी मिथिलेश रंजन और अकबरनगर के मकंदपुर निवासी प्रणव कुमार शामिल है। निशांत के पिता विनोद चौधरी जमादार हैं। वह खुद भी बीपीएससी की तैयारी करता है। जबकि मिथिलेश के पिता राजीव कुमार रंजन स्पेशल ब्रांच में दारोगा हैं। वहीं गिरफ्तार युवकों ने बताया कि स्मैक तस्करी का सरगना आदमपुर घाट निवासी प्रशांत राय है। वह 25 नवंबर को शराब मामले में जोगसर पुलिस चौकी से जेल गया है। उसके पिता प्रफुल्लचंद्र राही भागलपुर न्यायालय में सहायक लोक अभियोजक हैं।

पांच सौ के नोट में भरकर पीते थे स्मैक

पुलिस के हत्थे चढ़े नशा तस्कर खुद भी स्मैक के आदी थी। वे पांच सौ के नोट में स्मैक पाउडर भरकर नशा करते थे। इसके अलावा प्रशांत द्वारा पहुंचाए गए स्मैक का कारोबार करते थे। उन लोगों ने कई ऐसी दुकानों का नाम बताया है। जहां चोरी छिपे स्मैक युवकों के बेची जाती है। पुलिस ने युवकों के पास से कई पुडिय़ों में करीब 62 ग्राम स्मैक, पांच मोबाइल एल्यूमिनियम क्वाइल पेपर में लपेटा हुआ स्मैक बरामद किया है। पुलिस इस मामले में पकड़े गए युवकों का आपराधिक इतिहास खंगाल रही है।

About the Author

- न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.....

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

adv
error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......