नववर्ष नवगछिया के लोगों के लिए कई मायने में ऐतिहासिक.. उम्मीदों पर एक नजर

नवगछिया – वर्ष 2020 अपना बोरिया बिस्तर समेट चुका है. सूरज की पहली किरण के साथ हम लोग वर्ष 2021 में खड़े हैं. 2020 की कड़वी यादों को दरकिनार कर अगर 2021 में अगर सब कुछ ठीक रहा तो यह नववर्ष नवगछिया के लोगों के लिए कई मायने में ऐतिहासिक होने वाला है. आइए डालते हैं नव वर्ष की उम्मीदों पर एक नजर

– पिछले वर्ष नवगछिया जिला बनते बनते रह गया, इस वक्त लोगों को उम्मीद है कि नवगछिया को पूर्ण जिला का दर्जा दिलवाया जाएगा.

– बिहपुर के अनुमंडल बनने और ढोलबज्जा को प्रखंड बनने की उम्मीद

– बिहपुर के जयरामपुर गांव के गुवारीडीह में राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन क्षेत्र बनने की उम्मीद

– नवगछिया शहर के पूर्वी रेलवे केबिन पर अर्धनिर्मित ओवरब्रीज का कार्य पूरा हो जाने की उम्मीद

– नवगछिया अनुमंडल के विभिन्न जगहों पर करोड़ों की योजनाओं से एक बार फिर होगा कटा निरोधी कार्य, लोगों को बाढ़ कटाव से मुक्ति मिलने की उम्मीद

– नवगछिया शहर में आज से लागू हो रही नई ट्रैफिक व्यवस्था से लोगों को जाम से निजात मिलने की उम्मीद

– लत्तीपुर से नारायणपुर गंगा नदी के बांध पर सड़क बनाने के लिये मिली है मजूरी, सड़क बनने के बाद बाढ़ और कटाव से मुक्त होगी बड़ी आबादी, साथ ही नारायणपुर और बिहपुर प्रखंड को मिलेगी एक शॉर्टकट सड़क

– जहान्वी चौक से इस्माइलपुर तक रिंग बांध का कार्य इस वर्ष हो सकता है पूरा, फिर प्रत्येक वर्ष इस्माइलपुर के लोगों को नहीं करना पड़ेगा बाढ़ का सामना

2020 तुमको भूल न पाएंगे

वर्ष 2020 नवगछिया के लिए कई कड़वी यादों से भरा रहा. लॉकडाउन से पहले ही नवगछिया में भागलपुर जिले का पहला कोरोना रोगी मिला और एक महीने तक नवगछिया शहर और आसपास के क्षेत्रों में कर्फ्यू जैसा माहौल रहा. इस दौरान नवगछिया अनुमंडल के कई प्रखंड में भी बड़ी संख्या में कोरोना रोगी मिले और इलाके को कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाता रहा और महीनों तक यहां का जनजीवन अस्त व्यस्त रहा. अपराध और अपराधी की बात करें तो बीते वर्ष भी नवगछिया इससे उबर नहीं पाया. कई दुस्साहसिक वारदात सामने आए तो दूसरी तरफ पुलिस की पिटाई से मारे गए युवक की घटना के बाद पुलिसिंग की विश्वसनीयता पर उंगली भी उठी.

हालांकि पिछले दिनों नारायणपुर में बालक के अपहरण के बाद उसकी सकुशल बरामदगी से काफी हद तक छाती पूर्ति तो हुई लेकिन अन्य क्षेत्रों में हुए वारदात को देखकर कहा जा सकता है कि पुलिसिंग को और ज्यादा दोस्ताना और तीक्ष्ण बढ़ाने की जरूरत है. इस वर्ष नवगछिया के कई इलाके बाढ़ से बचे रहे लेकिन कोसी तटीय क्षेत्र के अलावा इस्माइलपुर प्रखंड को इस वर्ष भी बाढ़ का सामना करना पड़ा. नवगछिया शहर, नारायणपुर मधुरापुर बाजार को वर्ष भर जाम का सामना करना पड़ा तो विक्रमशिला सेतु और एप्रोच रोड भी आए दिन जाम की जद में रहा. कई महत्वाकांक्षी विकास योजनाएं जस की तस रही. इसमें नवगछिया पूर्वी केबिन पर बन रहे ओवर ब्रिज, जहान्वी चौक इस्माइलपुर रिंग बांध को गिराया जा सकता है.

2020 की सुखद यादें

– बिहपुर के जयरामपुर गांव में पांच हजार वर्ष पुरानी गुवारीडीह सभ्यता की खोज, मुख्यमंत्री का हुआ आगमन

– बिहपुर वीरपुर एनएच 31 के मिसिंग लिंक का शिलान्यास

– लत्तीपुर से नारायणपुर तक गंगा नदी बांध पर सड़क बनाने की मंजूरी

– नवगछिया बाजार में नई ट्रैफिक व्यवस्था की पहल

– गरुड़ों के संख्या में लागातार बढ़ोतरी के साथ वैश्विक मानचित्र पर आया कदवा

– जगतपुर सांसद आदर्श गांव घोषित, जगतपुर झील में विदेशी पक्षियों की बड़ी संख्या में आवाजाही, पर्यटन क्षेत्र घोषित होने के आसार

– समय समय पर नवगछिया के खिलाड़ियों, गायकों और छात्र छत्राओं ने गौरव करने का दिया अवसर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *