नवगछिया : अनियंत्रित हाइवा ट्रक ने मारा धक्का.. मोटरसाइकिल सवार युवक की मौत -Naugachia News

नवगछिया : नवगछिया थाना क्षेत्र के बाबा विशु राउत पुल पहुंच पथ पर महादेव धर्म कांटा के समीप अनियंत्रित हाइवा के धोखे से मोटरसाइकिल सवार युवक रंगरा थाना क्षेत्र के मुरली बनिया निवासी छोटू शर्मा 25 वर्ष पिता बासुदेव शर्मा की मौत हो गई है. इस दुर्घटना में मोटरसाइकिल पर सवार युवक मधेपुरा जिले के चौसा थाना क्षेत्र के लोआलगाम निवासी शैलेंद्र चौधरी पिता वासुदेव चौधरी गंभीर रूप से घायल हो गए. दुर्घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची नवगछिया पुलिस ने स्थानीय लोगों के सहयोग से घायल को तत्काल इलाज के लिए नवगछिया अनुमंडल अस्पताल भेज दिया एवं मृतक के शव को पोस्टमार्टम के लिए अनुमंडल अस्पताल लाया.

नवगछिया अनुमंडल अस्पताल में घायल युवक शैलेंद्र का प्राथमिक उपचार के बाद स्थिति को गंभीर देखते हुए मायागंज अस्पताल भागलपुर रेफर कर दिया गया. घायल शैलेंद्र चौधरी ने बताया कि छोटू शर्मा का किसी मक्का व्यापारी के पास पैसा बकाया था. बुधवार को दोपहर दो बजे के आसपास वह नवगछिया से मोटरसाइकिल पर सवार होकर महादेव धर्म कांटा के पास मक्के का बकाया पैसा लेने के लिए जा रहा था. धर्म कांटा के पास हमलोग पहुचने ही वाले थे की सामने से पीछे से आ रही अनियंत्रित हाइवा ट्रक ने धक्का मार दिया. स्थानीय लोगो ने बताया कि हाईवा के धक्का लगने से गंभीर रूप से घायल होने के कारण छोटू शर्मा की घटनास्थल पर ही मृत्यु हो गई. जबकि मोटरसाइकिल के पीछे बैठे शैलेंद्र चौधरी गंभीर रूप से घायल हो गए। दुर्घटना के बाद हाइवा ट्रक चालक हवाले कर मौके से फरार हो गया. वहीं नवगछिया पुलिस ने दुर्घटना ग्रस्त मोटरसाइकिल को जप्त कर लिया है.

– आठ माह पहले हुई थी युवक की शादी, दुघर्टना के बाद घर मे छाया मातम

सड़क दुर्घटना में छोटू शर्मा की मौत की खबर उनके परिजनों को मिलते ही मृतक के घर मे कोहराम मच गया. घर के परिजनों के रुदन पूरा वातावरण मातम में बदल गया. सूचना मिलते ही मृतक के परिजन नवगछिया अनुमंडल अस्पताल पहुचें. जहां पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौप दिया. मृतक के परिजनों ने बताया कि मृतक छोटू शर्मा अपने चार भाइयों में तीसरे नंबर पर था. आठ माह पूर्व बीते वर्ष जे दिसंबर माह में ही उसकी शादी हुई थी.

छोटू शर्मा की मौत के बाद उनकी पत्नी फुल कुमारी का रो रो कर बुरा हाल है वह पति की मौत के बाद रो-रो कर बार-बार बेहोश हो रही थी जिसे परिवार के अन्य सदस्य द्वारा ढांढ़स बंधाया जा रहा था. परिजनों के रुदन से नवगछिया अनुमंडल अस्पताल परिसर भी गमगीन हो गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *