" />
Published On: Wed, Jun 26th, 2019

नवगछिया : दिन में जवानों के साथ थानेदार ने ली शराब न पीने की कसम, रात होते ही तोड़ा.. -Naugachia News

नवगछिया : शराब के नशे में थाना में पकड़े गये खरीक थानेदार दिलीप कुमार को गिरफ्तार कर नवगछिया पुलिस ने जेल भेज दिया। सोमवार की रात में एसपी निधी कुमारी ने थाने में बदहवास पड़े दिलीप कुमार को पकड़ा था। मंगलवार को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जांच में शराब की पुष्टि होने पर एसपी ने थानेदार को निलंबित कर दिया। एसपी ने कहा कि थानेदार पर विभागीय कार्रवाई के बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई की जाएगी। दिलीप कुमार सुपौल जिले का रहने वाला है। .

एसडीओपी प्रवेन्द्र भारती और टाउन इंस्पेक्टर राजकपूर कुशवाहा नशे में धुत थानेदार को मेडिकल जांच के लिए अनुमंडल अस्पताल लेकर गये। जहां ब्रेथ एनलाइजर से जांच में उनके शरीर में 30 एमजी/सौ एमएल शराब की मात्रा पाई गई। चिकित्सकों द्वारा एसएफएल जांच के लिए खून का भी सैंपल लिया गया। इसके बाद थानेदार का मायागंज अस्पताल में मेडिकल करवाया गया जहां 0.09% शरीर में अल्कोहल की पुष्टि चिकित्सक द्वारा की गई। ब्लड सैंपल की मेडिकल कॉलेज में विशेष जांच की कराई जाएगी।

एसपी ने प्रेस वार्ता में बताया कि थानेदार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है और बिहार मद्य निषेध एवं उत्पाद अधिनियम 2016 के तहत नगर थाना में (कांड संख्या 202/19) दर्ज किया गया है। इन्हें भागलपुर में स्पेशल एडिशनल एक्साइज कोर्ट के जज विनोद कुमार तिवारी के समक्ष प्रस्तुत किया गया जहां से केन्द्रीय कारा भेज दिया गया। वर्ष 2009 बैच के सब इंस्पेक्टर दिलीप कुमार इससे पूर्व बांका जिले में कार्यरत थे। नवगछिया आने के बाद इन्हें एसपी ने नदी थाने की कमान सौंपी थी। बाद में जून के प्रथम पखवारे में खरीक थाने में पोस्टिंग की गई। .

मालूम हो कि नवगछिया में शराब के नशे में एक सिपाही को भी बर्खास्त किया जा चुका है। .

दिलचस्प बात यह है कि पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर सोमवार को दिन में जिले के पुलिस पदाधिकारियों एवं जवानों ने शराब का सेवन नहीं करने एवं इस कानून को सख्ती से लागू करने की शपथ ली थी। किन्तु खरीक के निलंबित थानेदार दिलीप कुमार इस शपथ को कुछ ही घंटों बाद भूल गया। बताया जाता है कि पुलिस के वरीय पदाधिकारी को पहले भी थानेदार द्वारा शराब पीने की शिकायत मिली थी।.

1. वरीय एसआई को प्रभार खरीक थाने में नये थानेदार की नियुक्ति नहीं की गयी है। पदस्थापन नहीं करने का कारण पदाधिकारियों की कमी बताई जा रही है। एसपी ने कहा कि डीआईजी से पदाधिकारियों की मांग की गई है। तत्काल वरीय एसआई को प्रभार दिया गया है।

2. बिना हथकड़ी व निजी गाड़ी से पहुंचा था कोर्ट निलंबित थानेदार को काला शीशा लगे प्राइवेट गाड़ी से कोर्ट लाया गया था। कोर्ट में चर्चा होने लगी कि छोटी-छोटी बात पर हाजत में बंद करने और हथकड़ी पहनाने वाले थानेदार के साथ वीआईपी ट्रीटमेंट क्यों किया जा रहा है। इसकी जानकारी वरीय अधिकारी को दी गई। उसके बाद कोतवाली इंस्पेक्टर केदारनाथ सिंह को कोर्ट भेजा गया। उसके बाद उसे हथकड़ी लगाया गया गया। कुछ पुलिस वाले समेत खास लोग आवभगत में लगे हुए थे।

3. ्र्र्र्र्र्र्र्र’ एसपी ने कहा- विभागीय कार्रवाई के बाद बर्खास्तगी की भी कार्रवाई की जाएगी ‘ नवगछिया में नशे का आरोपी सिपाही को पूर्व में किया जा चुका है बर्खास्त

4. एमजी शराब की मात्रा शरीर में पायी गयी ब्रेथ एनलाइजर से जांच में

5. प्रतिशत अल्कोहल की मायागंज में करायी गयी जांच में हुई पुष्टि

6. वरीय एसआई को प्रभार खरीक थाने में नये थानेदार की नियुक्ति नहीं की गयी है। पदस्थापन नहीं करने का कारण पदाधिकारियों की कमी बताई जा रही है। एसपी ने कहा कि डीआईजी से पदाधिकारियों की मांग की गई है। तत्काल वरीय एसआई को प्रभार दिया गया है।

7. बिना हथकड़ी व निजी गाड़ी से पहुंचा था कोर्ट निलंबित थानेदार को काला शीशा लगे प्राइवेट गाड़ी से कोर्ट लाया गया था। कोर्ट में चर्चा होने लगी कि छोटी-छोटी बात पर हाजत में बंद करने और हथकड़ी पहनाने वाले थानेदार के साथ वीआईपी ट्रीटमेंट क्यों किया जा रहा है। इसकी जानकारी वरीय अधिकारी को दी गई। उसके बाद कोतवाली इंस्पेक्टर केदारनाथ सिंह को कोर्ट भेजा गया। उसके बाद उसे हथकड़ी लगाया गया गया। कुछ पुलिस वाले समेत खास लोग आवभगत में लगे हुए थे।

8. ्र्र्र्र्र्र्र्र’ एसपी ने कहा- विभागीय कार्रवाई के बाद बर्खास्तगी की भी कार्रवाई की जाएगी ‘ नवगछिया में नशे का आरोपी सिपाही को पूर्व में किया जा चुका है बर्खास्त

9. प्रतिशत अल्कोहल की मायागंज में करायी गयी जांच में हुई पुष्टि

10. एमजी शराब की मात्रा शरीर में पायी गयी ब्रेथ एनलाइजर से जांच में

About the Author

- न्यूज़ को शेयर करे और कमेंट कर अपनी राय दे.....

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

adv
error: भाई जी कॉपी नय होतोन .......